Sunday, 22 November 2015

तुम जियाे हजारों साल..... साल के दिन कभी खतम ही न हों....

बड़ा खास दिन है। अगर ये दिन न होता तो हम न होते। हम ये दुनिया न देख पाते। जिंदगी क्या है और उसकी मुश्किलें क्या हैं - न जान पाते। इन मुशिकलों से कैसे निकलना है सीख न पाते।

 जिंदगी आसान तो कभी नहीं होती। हर कदम पर लगता है बस अब और नहीं लेकिन हर समय बदलता है... मुश्किलों से निकलना आप तभी सीख पाते हैं जब  आपमें हिम्मत हो..हिम्मत यानि आपके अभिभावक.. अगर आप किसान के परिवार से आते हो ता जिंदगी से लड़ना तो बचपन में ही आ जाता है...समय किसान के बच्चों को बचपन में ही बड़ा बना देता है। गुड्डा गुड़िया.. तो देख भी लें लेकिन कई ऐसी चीजें हैं जिसके बिना ही आपको जीना है यह आपको समय ही बता देता है ..आठ साल की उमर् में ही २० साल वालों जैसी अक्ल आ जाती है ..हर छोटी छोटी ख्वाहिशों के पूरा होने में ऐसे दम निकला करता है जैसे....हर बदलते मौसम में फसलों पर होते हैं आपके सपने और वे भी तब धुल जाते हैं जब उनपर आंधी तुफान पानी फेर जाता था। फिर आपके सपने अगले मौसम और फसल पर निर्भर हो जाते हैं। इन ख्वाबों के टूटने बिखरने के बीच जो कभी नहीं टूटती है वह हैं उम्मींदें...इसकी वजह होते हैं आपके पापा और मां। मुश्किल से मुशकिल दौर निकलता ही जाता है और निकल ही गया.. आप सोचते हैं शायद अब कठिन समय बीत गया है। अब शायद मुश्किलें थक गईं है लेकिन जिंदगी में अचानक एक ऐसा पल आता है और कहता है गलत। मुश्किलें तो अब शुरू होती हैं..
 जिंदगी है तो मुश्किलें हैं।

सोचा था कुछ अलग करुंगी..कर भी रही थी...किसी ने नहीं सोचा था कि मैं दिल्ली आउंगी और पीछे पलटूंगी ही नहीं. पत्रकार ये क्या होता है?? तेज तरार्र बिटिया और उससे जुड़ी डॉक्टर, इंजीनियर बनने की और उसके बाद आइएएस बनने की उम्मींदे..सब तोड़ ही दिया था मैनें.. लालू यादव युग में आइएएस की स्थिति ने ..उफ्फ...पर विश्वास था खुदपर और आपदोनो की दी हुई हिम्मत पर। कुछ अलग की सोच ने पत्रकार बना दिया...मैनें कई कई बार साबित भी किया की मैं गलत नहीं हू...लेकिन शायद हार से मेरा नाता पुराना है...जब जब सोचती हूं शायद परीक्षा की घड़ी खतम हो गई है तभी एक ऐसी कठिन परीक्षा सामने खड़ी होती है कि ... जिंदगी में ऐसा आंधी तुफान आया है कि रुक ही नहीं रहा है..कई मौसम आए और गए। हर मौसम की फसल ने धोखा ही दिया है..दुख तब गहरा हो गया जब सूखी फसल पर शुभचिंतको नें कभी पानी डाल दिया तो कभी आग ही लगा दी...लेकिन उम्मीद को टूटने नहीं दिया है।
हर ख्वाहिश पर दम निकलने निकलने को होता है लेकिन आपका चेहरा आपकी सीख हमेशा कानों में गूंजती रहती है..आपने कहा-
 सूरज न बन पाए तो बन कर दीपक चलता चल...
आपने कहा दुश्मन ताकतवरो के ही होते हैं..
समय मजबूत लोगों की ही परीक्षा लेता है..
कमजोर तो हमेशा दूसरो के काम बिगाड़ने में लगे होते हैं...
आपने कहा बकरी के बच्चे को तभी तक टोकरी के नीचे रखा जा सकता है जब तक बच्चे में ताकत नहीं होती है..जिन दिन बच्चा ताकतवर हो जाता है उसके बाद उसे टोकरी में रखना मुशकिल ही नहीं नामुमकिन है ..
.ठीक है सारी बातें..अमल भी कर रही हूं लेकिन समय शायद हराने को तैयार है जब समय पर जीत हांसिल कर लेती हूं तो दोस्त और शुभचिंतक रूपी दानव मुंह बाए सामने खड़े मिल जाते हैं जो लहलहाती फसल उजाड़ देते हैं। इनसे कैसे बचूं?

आपको देखा है रात रात भर जागते हुए..हमारे सपनों के लिए सिक्के जोड़ते हुए...आज जब समय हमें हराने को तैयार है तो मैनें भी उम्मीद न छोड़ते हुए कहना सीख लिया है...कुछ न कुछ नही जो भी होगा बढ़िया ही होगा...इस खास दिन पर मैं कहना चाहती हूं कि हम चारों भाग्यशाली हैं। हमारे सिर पर आपका आशिर्वाद रूपी हाथ हैं। जन्मदिन की ढ़ेर सारी शुभकामनाएं..तुम जिया हजारों साल...साल के दिन कभी खतम ही न हों...
 

Saturday, 17 October 2015

मैं आजकल केवट के रोल में ही हूं

राम लीला चल रही है. दिल्ली में चल रही रामलीला इसबार बॉलीवुड के कलाकार भाग ले रहे हैं. पिछले दिनों पूर्वी दिल्ली से  सांसद, गायक और अभिनेता मनोज तिवारी से मुलाकात करने का मौका मिला बड़े प्यार से कहा रील हो या रीयल मैं ‘केवट’ यानी सेवक ही हूं- 


दिल्ली की रामलीला में इसबार फिल्मी तड़का लगा है। भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता, गायक  सांसद मनोज तिवारी  रामलीला में केवट बन राम की नैया पार लगाएगें। लोकप्रिय धारावाहिक महाभारत में द्रोणाचार्य की भूमिका निभाने वाले सुरेंद्रपाल रावण की भूमिका में, मां वैष्‍णों धारावाहिक की मां बन चुकी रूपा दत्ता मां सीता के रूप में दिखेंगी।  बालीवुड अभिनेता रवि किशन -भरतपॉप गायक शंकर साहनी -विभिषणरजा मुराद -अहिरावण के पात्र में नजर आ रहे हैं। फिल्‍मी कलाकारों से भरी इस रामलीला का आयोजन 13से 23 अक्टूबर तक रामलीला मैदान में चल रहा है। 
भारतीय फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष पद को लेकर विवादों में आए गजेंद्र चौहान शंकर की भूमिका में नजर आएंगे। रामलीला में पात्र निभाने वाले फिल्मी सितारों की फेहरिस्त जरा लंबी है। इसमें शक्ति कपूरहेमंत बिरजेपुनीत इस्सर,असरानी समेत करीब एक दर्जन फिल्म व टेलीविजन से जुड़े कलाकार शामिल है।
सांसद मनोज तिवारी अपने किरदार के विषय में कहते हैं कि वो रील लाइफ हो या रीयल लाइफ दोनों में ही केवट की ही भूमिका में हैं। यही उनकी वास्तविक पहचान है। जनता, समाज, फिल्‍मी करियर और गायकी से जुड़े कई मनोरंजक लेकिन तीखे सवाल कर रहीं है पूजा मेहरोत्रा और वैसे ही चालाकी भरे जवाब दे रहे हैं मनोज तिवारी
रामलीला में आप केवट के रोल में नजर आएंगे?
मैं आजकल केवट के रोल में ही हूं। चाहें वह स्‍टेज हो या फिर जिंदगी। असल में काम सेवक का ही है। स्‍टेज पर राम जी का केवट बनूंगा रीयल लाइफ में जनता का सेवक हूं। हालांकि जो भूमिका मिले उसे तो सहज तरीके से निभाने की कोशिश करूंगा। डायलाग तो मंच पर बोलुंगा। गाना पहले से रिकार्ड होगा। 
 रामलीला के दौरान सबकुछ स्‍टेज पर हजारों लोगों के सामने, रिहर्सल की जरुरत पड़ेगी?
हांनिश्चित तौर पर मैं तैयारी करूंगा।  मुझे अन्य पात्रों के साथ तैयारी करनी होगी। संवाद वगैरह सारे। जहां तक स्‍टेज पर लाइव पर फॉरमेंस की बात है तो मैं आपको बता दूं कि मैं मात्र तीन सालों से ही मंच से दूर हूं। मैं हर वर्ष अपने गांव में रामलीला कराता हूं और पात्र भी निभाता हूं। जब मुझे रामलीला के लिए अनुरोध किया गया तो मुझे हां करने में एक मिनट नहीं लगा, मुझे मेरा गांव याद आ गया। वह अहसास पैदा हुआ कि जैसे अभी रामायण उठाओ और पात्रों को जीओ। 
सांसद के तौर पर दिल्ली वाले आपसे परिचित है। अब आप सीधे तौर पर उनसे जुड़ेगे एक कलाकार के तौर पर आप इसे किस तरह लेते हैं?
दिल्ली के लोग मुझे और करीब से जान सकेंगे कि मनोज तिवारी एक कलाकार एक व्यक्ति के तौर पर कैसा है। वैसेमैं खुद दिल्ली से लगातार जुड़ रहा हूं। दिल्‍ली और दिल्‍ली के लोगों की खासकर मेरे पूर्वी दिल्‍ली के लोगों को  समझने की कोशिश कर रहा हूं। 
दिल्‍ली पहले आप मेहमान के रूप में आते थे अब आप यहां सांसद है, क्‍या बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं
पहले दिल्‍ली से हिचक होती थी। अब दिल्‍ली मेरी लाइफ लाइन बन चुकी है। यहां का हर कुछ अलग है, सावन में कांवडि़या के लिए जितनी व्‍यवस्‍था होती है उतनी ही शबे बारात और जुमा पर भी व्‍यवस्‍था की जाती है। पूर्वी दिल्‍ली की बदहाली देखकर निराश हूं, बदलना है कुछ करना है। बहुत मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं है।
पूर्वी दिल्‍ली गंदगी और भीड़ भाड़ वाली जगह है और यही इसकी सबसे बड़ी परेशानी भी है, क्‍या कुछ नया करने की कोशिश है
पूर्वी दिल्‍ली के लिए एक सेंट्रल स्‍कूल पास कराया है। डीडीए ने पिछले चार महीने से जमीन नहीं दी है जहां काम शुरू हो सके। 119 जगहों पर अनऑथराइज्‍ड कब्‍जा है। चूंकि वोट बैंक है तो नेता उन कब्‍जा वाली जगह पर हाथ नहीं डालता है लेकिन मैंने सोच लिया है भले ही मुझे हरा दें अगले चुनाव में लेकिन मैं कुछ अलग करूंगा। मुझे सिर्फ गायक और अभिनेता न समझें अभि से हटकर मैं नेता ही हूं। मैं अपनी पूरी ताकत लगा दूंगा। बदलाव की शुरुआत कर दी है।
अक्‍रस जीत के बाद अभिनेताओं और सेलिब्रिटी अपने एरिया से गायब हो जाते है
जी मैं हर चौथे दिन अपने क्षेत्र के किसी न किसी वार्ड में मिलता हूं।मिलूंगा। शुकून मिलता है। मैं जो भी हूं इन्‍हीं लोगों की वजह से हूं गायक, नेता या फिर अभिनेता। कुछ तो समाज के लिए करूंगा ही ।
आप लोगो का खर्च बहुत होता है क्‍या सांसद निधि से काम चल जा रहा है
जी आपने दुखती रक्‍त पर हाथ रख दिया है। बहुत मुश्किल में हो गया है गुजारा। सांसद निधि और हमलोग को जितनी सैलरी मिलती है उससे चौगुना खर्च है हमारा। अगर ईमानदारी से काम करना है औश्र समाज को कुछ देना है तो नाचना गाना और अभिनय करके अपना खर्च भी निकालना पड़ता है और आम जनता की इसी से मदद भी करते हैं। अक्‍सर हम कलाकारों को लोग नेता बनने क ेबाद कुछ अलग अंदाज से देखते हैं। नहीं हम अपना खर्चा नेता बनने के बाद भी स्‍टेज शो करके या फिल्‍मों में काम करके ही निकालते हैं।
रील लाइफ का जनप्रतिनिधि और रीयल लाइफ के जनप्रतिनिधि मे कितना फर्क है?
मैं अपनी तरफ से रीयल लाइफ के जनप्रतिनिधि के साथ तो न्याय करने की पूरी कोशिश में हूं। मेरा मोबाइल नंबर हमारे क्षेत्र में हर किसी के पास है। मैं सभी से कहता हूं मुझे फोन करो और समस्‍या बताओ। हर दिन लगभग दस हजार फोन आता है। मैं बिना सुरक्षा के ही निकलता हूं। ताकि जान सकूं कि आम जनता सड़क पर किन किन समस्‍या का सामना कर रहा है। 

Monday, 28 September 2015

साथी हाथ बढ़ाना

जिंदगी का मोल इमरजेंसी के हालात समझाते हैं। किसी हादसे, एक्सिडेंट या अचानक दौरा पड़ जाने जैसे हालात में जानलेवा बन जाते हैं। जब वक्त पर मदद नहीं मिलती। एक्सपर्ट्स की मदद से पूजा मेहरोत्रा बता रही हैं कि क्या करें जब कोई कर रहा हो मेडिकल इमरजेंसी का सामना :

जिंदगी में हादसा कभी भी कहीं भी हो सकता है। सड़क पर अक्सर एक्सिडेंट होते हैं, लोगों की तबियत बीच राह खराब हो जाती है। कई बार तो जान से हाथ धोने की नौबत आ जाती है। क्या मेडिकल इमरजेंसी के हालात में किसी की मदद करके उसकी जान पर आए संकट को टाला जा सकता है? मेडिकल साइंस का मानना है कि हां ऐसा किया जा सकता है। हम जरा से अलर्ट होकर बहुतों की मदद कर सकते हैं।

कहीं भी हो सकता है कुछ भी
इंसानी शरीर नेचरल बैलेंस का एक शानदार नमूना है। शरीर के भीतर से लेकर बाहर तक सब एक फाइन बैलेंस में चलता है। यह संतुलन जरा सा इधर से उधर हुआ और हादसा हो जाता है। आइए जानते हैं कुछ ऐसी ही परिस्थितियां जिनमें पड़ती है मदद की जरूरत : 

कार्डियक अरेस्ट (हार्ट फेल), एक्सिडेंट, अस्थमा अटैक, बेहोशी, पैनिक अटैक, मिरगी (फिट्स, एपलैप्सी) चोकिंग (खाना खाते वक्त या पानी पीते वक्त सांस की नली में कण के चले जाने पर सांस का रुक जाना), आगजनी के शिकार (बर्न), प्रेगनेंट लेडी को लेबर पेन शुरू हो जाना और किसी बुजुर्ग का बाथरूम में गिर जाने पर कूल्हे की हड्डी का टूट जाना। अक्सर ऐसी किसी भी घटना को देखकर हाथ-पांव फूल जाते हैं। ऐसी परिस्थिति को देख या तो लोग आगे नहीं आते और यदि कोई आगे आता भी है तो उन्हें पता नहीं होता कि करना क्या है। 
 
क्या हम ऐसे हालात के लिए तैयार हैं? क्या किसी का एक्सिडेंट हुआ है और हम आंख फेर कर आगे बढ़ जाएंगे या फिर हमें रुक कर उसकी मदद करनी चाहिए? उसका इलाज के लिए डॉक्टर बुलाने के साथ उसे सांत्वना देनी चाहिए कि सब ठीक है। अलर्ट हो जाइए और मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाइए लेकिन सावधानी से कि आपकी मेहनत रंग लाए और किसी की जान बच जाए।

हार्ट अटैक
लक्षण
-
हार्ट अटैक होने पर चेस्ट की बाईं तरफ तेज दर्द, बेचैनी, सांस लेने में तकलीफ होती है।
-
जिसे अटैक आया हो, वह न तो ठीक से खड़ा हो पाता है और न ही बैठ पाता है। ऐसे में पता ही नहीं चलता कि करना क्या है।
-
ऐसे समय में डॉक्टर और एंबुलेंस को फोन तो आप कर देते हैं लेकिन यही कुछ मिनट मरीज के लिए बहुत खास होते हैं।
-
हार्ट फेल्योर में ब्लड प्रेशर कम हो जाता है और सांस फूलने लगती है।  
-
हार्ट से जुड़े मामले में मरीज के पास चंद मिनट होते हैं। ऐसे में सबकुछ बहुत तेजी से समझते हुए एक्ट करना होता है।

क्या करें
-
यदि ऐसी कोई घटना बस में, बाजार में, ऑफिस में, मॉर्निंग वॉक के दौरान सड़क पर चलते हुए घटती हुई देंखे तो सबसे पहले मरीज को लिटाएं।
-
मदद के लिए एंबुलेंस को बुलाने के साथ डॉक्टर फोन पर भी सलाह दे देते हैं।
-
मरीज का हौंसला बढ़ाने के साथ उसे रिलैक्स करने की कोशिश करें।
-
यदि मरीज ने टाई और बेल्ट बांध रखी है तो उसे खोलें। देखें को मरीज ने बदन को कसने वाला कोई कपड़ा न पहना हो। जूता खोलें, मोजा भी हटा दें।
-
महिला मरीज है तो उनके ब्रा का हुक खोल दें, साड़ी या सलवार का नाड़ा ढीला करें।
-
मरीज को कुछ खिलाने-पिलाने की कोशिश न करें। हार्ट अटैक की स्थिति में कुछ भी पीने को नहीं देना है। यह घातक हो सकता है।
-
अगर सिम्पटम हार्ट अटैक की ओर इशारा कर रहे हैं तभी पानी में घोल कर एसप्रिन दें।
..............................................................................
कार्डियक अरेस्ट
लक्षण

-
इसमें इंसान अचानक बेहोश हो जाता है। गर्दन एक ओर लुढ़क जाती है। हाथ पैर ठंढे हो जाते हैं। धड़कन और सांस रुक जाती है।
-
इसमें मरीज के हालात सुधारने के लिए महज 2 से 10 मिनट का वक्त होता है।
क्या करें
-
कार्डियक अरेस्ट में मदद करने के लिहाज से सीपीआर10 नाम की टेक्निक सीखनी चाहिए। 
-
सीपीआर10 एक जीवन रक्षक टेक्नीक है, जिसे कोई भी सीख सकता है। इसमें मुंह में मुंह लगाकर सांस देने की जरूरत भी नहीं होती है।
-
फिर दोनों हाथों को मरीज के चेस्ट के बीचों बीच रखकर तेजी से सीपीआर10 दें। 
-
इस तकनीक में चेस्ट के बीचों-बीच दोनों हाथ एक दूसरे के ऊपर रखकर बहुत तेजी से छाती पर धक्का मारना होता है।
-
ऐसे में मरीज को फ्लोर पर सीधा लिटाएं, जिसमें उसका चेहरा छत की ओर होना चाहिए।
-
जो भी सीपीआर परफॉर्म कर रहा है, उसकी कुहनी मुड़नी नही चाहिए और दोनों हाथ इंटरलॉक्ड होने चाहिए।
-
हाथ का हथेली वाला भाग छाती के बीच में होना चाहिए, दूसरा उस हाथ के ऊपर हथेली की ओर ही रखा गया होना चाहिए।
-
छाती को दबाने की रफ्तार प्रति मिनट 100 होने के साथ-साथ स्पीड तेज होनी चाहिए।
-
यदि कोई सहायता के लिए हो तो हाथ और पैर की मालिश भी कराएं और मुंह से भी सांस जिसे रेस्क्यू ब्रीद भी कहते हैं दें।
-
सीपीआर की तकनीक को अच्छी तरह समझने के लिए www.youtube.com/watch?v=Mo6XfFIbSEE पर जाएं।
-
लगातार चेस्ट पर तेज हाथों से दिए जा रहे दवाब की वजह से मरीज की सांसे वापस आ जाती है और मरीज की जान बचने के चांस बढ़ जाते हैं।
-
सीपीआर तकनीक का उपयोग करते समय ध्यान रखे कि इसे सिर्फ हार्ड सरफेस पर ही किया जाना चाहिए।
...................................................
 

रोड एक्सिडेंट
मेट्रोपॉलिटन सिटी से लेकर छोटे-बड़े शहरों में सभी जगह की सबसे बड़ी समस्या है सड़क दुर्घटना। लापरवाही और फर्स्ट एड की जानकारी न होने से कई जाने चली जाती हैं। एक्सिडेट से मौत के ज्यादातर केसेज में सबसे बड़ी वजह ज्यादा खून का बह जाना होता है। अगर जरा सी सावधानी बरतें और मेडिकल टीम और पुलिस के आने से पहले एक्सिडेंट के शिकार शख्स के बहते खून को रोकने की कोशिश करें तो किसी की जान बचाई जा सकती है।
क्या करें
-
सबसे पहले दुर्घटना के शिकार इंसान के शरीर से बहने वाले खून को रोकने की कोशिश करनी चाहिए।
-
शरीर के जिस अंग से खून बह रहा है, उसे साफ कपड़े से दवाब के साथ टाइट बाधें। इस बात का ध्यान रखें कि खून का बहाना बंद हो जाए।
-
अगर कपड़ा नहीं है तो उस जगह को तब तक दबा कर रखें जब तक कि खून निकलना बंद न हो जाए।
-
कोशिश करके 5-10 मिनट के भीतर एक्सिडेंट के शिकार शख्स को मेडिकल हेल्प दिलाने की कोशिश करें।
-
अगर दिख रहा है कि हेड इंजरी है, तो आराम से मरीज को ज्यादा हिलाए-डुलाए बिना हार्ड प्लेस पर लिटाएं।
-
बहुत सुविधा अगर नहीं मिल पा रही है तो मरीज का सबसे पहले पैर ऊपर कर दें, ब्लड प्रेशर को मेंटेंन करने के लिए हथेली और तलवे को रगड़े जिससे शरीर में गर्माहट बनी रहे।
-
अगर स्पाइनल इंजरी है तो व्यक्ति को काफी सावधानी के साथ फ्लैट और हार्ड सरफेश पर लिटाएं।
-
मरीज को ज्यादा हिलाने-डुलाने से बचना चाहिए।
-
अगर एंबुलेंस या पुलिस मदद को नहीं आई है तब कार या टैक्सी में भी मरीज को लिटाकर ले जाने की ही कोशिश करें।
-
यदि मरीज एक्सिडेंट में ठीक दिख रहा है। लेकिन उसका हाथ या पैर उठ नहीं रहा है और तेज दर्द है तो हो सकता है मरीज के शरीर में कहीं हड्डी टूटी हो।
-
हाथ पैर में दर्द वाली जगह पर तो कस कर कपड़ा बांध देना चाहिए। अगर किसी लकड़ी का फट्टा या फिर कड़े प्लास्टिक का ही कुछ चपटा या स्टिक जैसी चीज मिल जाए तो उसे दर्द वाले हिस्से को बांध दें। इससे प्रभावित हिस्सा ज्यादा हिलेगा-डुलेगा नहीं। 
-
कई बार एक्सिडेंट इतना दर्दनाक होता है, कि मरीज का अंग तक कट जाता है। डॉक्टर की सलाह है कि ऐसी स्थिति में मरीज के कटे अंग को बर्फ में रखकर मरीज के साथ ही डॉक्टर तक पहुंचाने की कोशिश करें।

..................................................................................
 
अस्थमा
बदलते मौसम में अक्सर अस्थमा के अटैक बढ़ जाता है। अस्थमा सांस की बीमारी है। इसमें सांस लेने वाली नलियों में सूजन आ जाती है जिससे सांस लेने में तकलीफ होती है। बदलते मौसम के साथ ठंढ के दौरान, पहाड़ों पर, एयर पॉलुशन की वजह से या फिर ज्यादा भीग जाने पर अस्थमा का अटैक होता है। पेशेंट की सांसे उखड़ने लगती है। कई बार मरीज को भी पता नहीं होता कि उन्हें अस्थमा अटैक हुआ है। कभी-कभी अटैक इतना तेज होता है कि पेशंट बेहोश हो जाता है या फिर सांस रुकने लग जाती है। अक्सर अस्थमा के मरीज अपनी बीमारी के बारे में जानते हैं और विपरीत परिस्थितियों के लिए तैयार भी रहते हैं। मुसीबत उन मरीजों के लिए ज्यादा होती है जिन्हें अपनी इस बीमारी के बारे मे पता नहीं होता।
यदि किसी को बाजार में, घूमने के दौरान, खेलने कूदने के दौरान, एग्जाम देते वक्त अस्थमा अटैक पड़ जाए तो :
-
मरीज को रिलैक्स करने के साथ सबसे पहले उसके कपड़े ढीले करें।
-
मरीज को सीधा बिठाएं, अस्थमा अटैक के दौरान मरीज को लिटाना कतई नहीं चाहिए।
-
मरीज के आस-पास भीड़ न लगाएं और शांत रहें।
-
कुछ खिलाने-पिलाने की कोशिश न करें। खाना-पानी सांस की नली में फंस सकता है और हालत ज्यादा बिगड़ सकती है।
-
यदि मरीज बोल सकने की स्थिति में नहीं है तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से फोन पर या फिर पास के अस्पताल जाने की कोशिश करें।
.....................................................................
चोकिंग 
-
खाने या पीने के दौरान सांस की नली में एक छोटा सा कण भी फंस जाए तब यह स्थिति पैदा हो जाती है। इसकी वजह से मरीज न तो सांस ले पाता है और न कुछ बोल ही पाता है।
-
कई बार बच्चे खेल खेल में कुछ भी निगल लेते हैं। 
-
बच्चों में चोकिंग की सबसे बड़ी शिकायत क्वाइन निगलने से होती है।
-
बड़े लोगों में अक्सर खाने-पीने के दौरान हंसने-बोलने से खाना सांस की नली में चला जाता है और उसके बाद हालत नाजुक हो जाती है।
-
चोकिंग के वक्त दिमाग को ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है और ऐसी स्थिति में कई बार मरीजों की जान पर बन आती है और मरीज बेहोश हो जाता है।

चोकिंग के लक्षण
-
अक्सर बच्चे कुछ निगल लेते हैं तब और बड़े खाने पीने कुछ फंस जाने के दौरान पहले खुद, ख ख ख या फिर ह ह ह का साउंड निकाल कर ठीक होने की कोशिश करते देखे जाते हैं।
-
गला सहलाते हैं। मामला तब गंभीर हो जाता है जब कुछ बोल पाने की स्थिति में नहीं होते और न ही सांस ले पाते हैं।
-
ऐसी परिस्थिति में कई बार आंख से पानी तक निकलने लग जाता है। 
-
अगर कुछ ज्यादा देर तक यही अवस्था रहती है तब मरीज के हाथ पैर के नाखून नीले और होंठ सूखने लगते हैं। मरीज कभी-कभी बेहोशी की हालत में पहुंच जाता है।

कैसे और क्या करें
-
सबसे पहले यह समझना होगा कि गले में फंसा क्या है। अगर बच्चे ने सिक्का या कोई चीज निगल ली है तो गर्दन ऊपर न करें, अक्सर खाने-पीने के दौरान गले में कुछ फंसने पर हमें सलाह दी जाती है कि हम ऊपर देखें।
-
बच्चे ने अगर कुछ निगल लिया है तो वह गर्दन ऊपर करने पर और फंस सकता है या फिर अंदर जा सकता है। ऐसे में स्थिति और खराब हो सकती है।
-
ऐसी किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए सबसे पहले गर्दन के पीछे वाले हिस्से पर मुट्ठी बना कर धीमे-धीमे मुक्के मारना चाहिए।
-
यदि स्थ्िाति ज्यादा गंभीर लग रही है तो उस इंसान के पीछे खड़े हो जाएं और उसके हाथ को उसकी कमर के आसपास ऐसे रखें की हाथ उससे लिपटा हुआ लगे। व्यक्ति को थोड़ा आगे की ओर झुकाते हुए उसकी नाभि के थोड़ा सा ऊपर अपने एक हाथ की मुट्ठी बना कर रखें और दूसरे हाथ से उस मुट्ठी को दबाएं। जैसे आप उसे उठाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा करने से कई बार गले में फंसी चीज सामान झटके से बाहर आ जाता है। अगर फिर भी न निकले तो मेडिकल हेल्प आने तक कोशिश करते रहें।

....................................................................... 
 
आग लग जाने पर

जलने की घटना सिर्फ किचन में ही नही होती, बल्कि रोड एक्सिडेंट में कार में आग लग जाने की घटनाएं आम हो गई हैं। दीवाली के दौरान आगजनी और पटाखे की वजह से बहुत सारी घटनाएं इस तरह की दुर्घटनाओं की सुनने को मिल जाती है। 

क्या करें
-
आग लग जाने और धुआं उठने की स्थिति में सबसे पहले जमीन में लेट जाना चाहिए। चूंकि धुआं ऊपर की तरफ उठता है, ऐसे में खड़े रहने से घुटन और सांस न ले पाने की समस्या पैदा हो सकती है।
-
अगर आग ऑफ़िस, घर में या किसी मकान में लगी है तो खिड़की दरवाजे खोल देने चाहिए।
-
यदि इस आगजनी में किसी के शरीर में आग लग गई हो तो उस पर पानी आदि न डाल कर किसी कंबल जैसी चीज में उसे लपेट कर आग बुझाने की कोशिश करनी चाहिए।
-
सुरक्षित स्थान पर ले जाकर जल्द से जल्द शरीर से कपड़े निकाल दें। इससे शरीर को कम से कम नुकसान होगा।
-
जलने वाले ने यदि अंगूठी, घड़ी, गहने या किसी भी मैटल का कुछ पहना रखा है तो उसे तुरंत निकाल दें। ये चीजें गर्म होकर शरीर को नुकसान पहुंचा सकती हैं।
-
उसके बाद शरीर के जले हुए भाग और शरीर पर पानी डालना चाहिए। इससे जलने की गहराई खत्म होती है और दर्द भी कम होता है।

क्या न करें
-
आग के बुझते ही शरीर पर पानी डालें, याद रखें बहुत ठंडा पानी न डालें। ऐसा करने से जान जाने का खतरा बना रहता है।
-
कई बार लोग जले हुए अंग पर टूथपेस्ट, घी और तेल लगा देते हैं, बिल्कुल न लगाएं। इससे शरीर में इन्फेक्शन बढ़ने का खतरा बना रहता है।
-
जली जगह पर सीधे बर्फ न रगड़े और ना ही फ्रिज का ठंडा पानी ही डालें।

बेहोशी
अक्सर किसी बड़ी दुर्घटना या फिर घर के बाहर किसी वजह से लोग बेहोश हो जाते हैं। ऐसे में भीड़ तो बहुत लग जाती है, लेकिन मदद के लिए आगे आए लोग एंबुलेंस और पुलिस का इंतजार करते रहते हैं। जब तक कोई मेडिकल हेल्प मिले हम मदद कर सकते हैं।
क्या करें
-
सबसे पहले मरीज को हवादार और ठंडी जगह पर लिटाएं। अगर ठंड का मौसम है तो गर्म और हीटर वाली जगह पर लिटाएं।
-
सबसे पहले बॉडी को टाइट कर रहे कपड़ों को हल्का करें, बेल्ट खोल दें, टाई लगाई है तो खोल दें, शर्ट के बटन खोल दें, जूता मोजा खोल दें।
-
महिला के साथ भी बदन को कसने वाले कपड़ों को जैसे जींस और पैंट के बटन को खोल कर ढ़ीला करें, ब्रा का हुक खोल दें।
-
किसी आराम दायक जगह पर ले जाकर पैरों को तकिया आदि का सहारा देकर ऊंचा कर दें।
-
चिन (ठुढी को) को थोड़ा ऊपर उठा दें, इससे ब्लड सर्कुलेशन ऊपर की ओर जाता है।

क्या न करें
-
आनन फानन में अक्सर लोग बेहोशी को फिट या मिरगी समझ कर जूता चप्पल सुंघाने लग जाते हैं। ऐसा बिल्कुल न करें।
-
पानी या किसी तरह की पीने की सामग्री न दें। वह गले में फंस सकती है और सांस रुक सकती है।
-
हाथ-पैरों पर नजर रखें, अगर ठंडे हो रहे हैं तो उन्हें गर्म रखने के लिए हाथ पैर की मसाज करें।
-
सबकुछ ठीक है, आपको कुछ नहीं होगा, सब ठीक हो जाएगा जैसी बातें बोल कर सांत्वना दें और अगर मरीज बोलने की हालत में है तो उसकी परेशानी जानने की कोशिश करें।

 
मिरगी या इपलैप्सी
-
मिरगी में अक्सर लोगों का शरीर अकड़ जाता है, मुंह से थूक निकलने लगता है। ऐसे में लोग मरीज को जूता सुंघाने, मारने पीटने तक लग जाते हैं। ऐसा बिलकुल नहीं करना है।
-
पहले मरीज को आराम से लिटाएं।
-
फिट्स आने पर अक्सर लोगों के दांत पर दांत चढ़ जाता है, जिससे जीभ कटने का भी खतरा रहता है।
-
कुछ लोग ऐसी परिस्थिति में मुंह में उंगली डाल देते हैं। ऐसा न करके दातों के बीच चम्मच या ऐसा ही कुछ रखा जा सकता है। 
-
मरीज अक्सर 4-5 मिनट में होश में आ जाता है। इस लिए बहुत घबराने की बात नहीं होती है। बस ये ध्यान रखना है कि बेहोशी के हालत में कुछ खिलाना-पिलाना नहीं है।

 
पेट में दर्द
कई बार ऑफिस में बैठे बैठे, बाजार में या रात में सोते हुए पेट में अचानक दर्द उठता है। दर्द इतना अधिक होता है कि लगता है जान निकल जाएगा। 
क्या करें
-
अक्सर दर्द के दौरान लोग पानी पी लेते हैं। ऐसा न करें। 
-
आराम से लेट जाएं। अगर डॉक्टर के पास जा सकते हैं तो जाएं नहीं तो एंबुलेंस को फोन करें।
-
अगर घर में पेन किलर है तो Colic pain killer लें या फिर केमिस्ट से Drotin दवा मांगे।

 

प्रेगनेंट विमन और लेबर पेन (डिलीवरी)
पिछले कई दिनों से खबरें सुर्खियां बनती रही हैं कि कभी रेलवे स्टेशन पर, कभी मेट्रो में तो कभी मार्केट में प्रेगनेंट महिला को लेबर पेन शुरू हो गया। इतना वक्त भी नहीं मिला कि उसे हॉस्पिटल तक पहुंचाया जा सके। यह एक महिला और बच्चे दोनों के लिए नाजुक मौका होता है, इंफेक्शन के सबसे ज्यादा चांसेज होते हैं। ऐसे में मां और बच्चे को बचाना और अस्पताल तक सही सलामत पहुंचाना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है।
क्या करें
-
ऐसी भी किसी परिस्थिति में महिलाएं बहुत घबरा जाती हैं, सबसे पहले महिला को यह विश्वास दिलाने की कोशिश करें कि वह ठीक है और बच्चा भी सुरक्षित है।
-
अगर भीड़ एकत्रित हो रही है है तो उसे वहां से हटाएं।
-
अगर बच्चा बाहर आ गया है तो बहुत सावधानी से प्लासेटा में धागा बांध दें।
-
बच्चे को गर्भनाल से अलग करने की कोशिश न करें, संक्रमण के चांसेज होते हैं
-
अगर बच्चा बाहर आ गया है, तो सबसे पहले बच्चा का रोना जरूरी होता है। चूंकि नली बहुत बड़ी नहीं होती ऐसे में बच्चे को रुलाने की कोशिश करनी चाहिए।
-
बच्चे को धीमें से चुटकी कांटे, पीठ पर थपथपाएं, अगर बच्चा रो दिया तो उसकी रेस्पेरिटरी सिस्टम शुरू हो जाएगा और फिर बच्चे की जान को खतरा नहीं रहता है।
-
महिला से हो रही ब्लीडिंग को रोकने के लिए नली बांधनी जरूरी होती है। उसे पतले कपड़े, चिमटी या फिर रबड़ से भी बांधा जा सकता है।
-
अगर मां बेहोश नहीं हुई है तो उसे पानी, शिकंजी पिलाया जा सकता है।
-
इतनी देर में मेडिकल टीम या फिर एंबुलेंस करने की कोशिश करें।

पैनिक अटैक
-
इन दिनों लोगों की सबसे बड़ी समस्या है असुरक्षा।
-
जिसकी वजह से वे हर समय टेंशन में रहते हैं और उन्हें कभी भी पैनिक अटैक हो जाता है।
लक्षण
-
सांस जल्दी-जल्दी आना, दिल का जोर-जोर से धड़कना और घबराहट होना, सीने में दर्द और डिस्कंमफर्ट, चक्कर आना, पसीना आना, वोमिटिंग और पेट खराब हो जाता, ऐसा महसूस होना कि बेहोश हो जाएंगे, शरीर में झनझनाहट होना, कभी ठंडा लगना कभी गर्मी लगना, डर लगना कि मर जाउंगा, शरीर पर नियंत्रण खो देना और ऐसा लगना कि अब कुछ नहीं बचा।
-
पैनिक होने की बड़ी वजह व्यवहार में बदलाव और एंग्जाइटी भी हो सकती है जो अटैक की वजह बनते हैं।
-
अगर लगे हाथ पैर कांप रहा है, गला सूख रहा है तो बैठ जाएं, गहरी सांस लें। दिल की धड़कन सामान्य होने दें। पानी पिएं। खुद को शांत करने के लिए ऑल इज वेलसब ठीक है बोलें।
-
ऐसी किसी भी परिस्थिति में सबसे पहले खुले स्थान में आए, गहरी लेकिन आराम से सांस लें। बदल को कसने वाले कपड़ों को ढीला करें। लेट जाएं। 
https://ssl.gstatic.com/ui/v1/icons/mail/images/cleardot.gif