Tuesday, 28 July 2015

समाज में लड़कियां चाहिए, परिवार में नहीं

 पूजा मेहरोत्रा।।

सख्त कानून और जागरूकता अभियानों के बावजूद देश में लिंगानुपात में तेजी से गिरावट दर्ज की जा रही है। विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही राजनीतिक पार्टियों के लिए आधी आबादी आज भी मुद्दा नहीं है और भ्रूण हत्या उनके अजेंडे में तो दूर-दूर तक नहीं हैं। 2011 की जनगणना के मुताबिक स्त्री-पुरुष लिंगानुपात 940 प्रति हजार है, लेकिन 0-6 वर्ष के बच्चों में लड़कियों का अनुपात घटकर महज 914 ही रह गया है।

ऐसे में स्वाभाविक है कि ‘बेटी के जन्म दिन पर उत्सव मनाओ, पढ़ा-लिखा के काबिल बनाओ’और ‘बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ’ जैसे नारे महज छलावा लगते हैं। बेटी अंतरिक्ष में पहुंच गई है, देश की प्रधानमंत्री बन चुकी है, मुख्यमंत्री रह चुकी है, लेकिन फिर भी परिवार में बोझ बनी हुई है। बेटियों को घरों में बेटों के समान अधिकार नहीं मिल रहा है। बेटियों के जन्म पर आज भी परिवार दुखी होता है। यह विडंबना ही है कि बेटे की आस भी उस मां से रखते हैं जो किसी की बेटी है। हमारे इस देवी पूजन करने वाले समाज में नन्ही कलियों को देवी तो बनाते हैं, लेकिन जैसे ही पता चलता है कि गर्भ में बेटी है हत्यारे बनने में देर नहीं लगती। जन्म से पहले ही उसे मौत की नींद सुला देते हैं।

राष्ट्रीय जनगणना आयोग के आंकड़े इस बात की पुष्टि कर रहे हैं कि नियम कानून को ताक पर रखकर लिंग जांच गांव-गांव में की जा रही है। पिछले दिनों बिहार के वैशाली जिले के जंदाहा गांव में चार अल्ट्रा साउंड सेंटर पर छापामारी कर उन्हें बंद किया गया। बिहार की ही बात को आगे बढ़ाया जाए तो यहां 2001 में 1000 पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या 919 थी जो 2011 में तीन फीसदी कम होकर 916 रह गई है।

बिहार के 38 जिलों में से नौ जिलों में कन्या भ्रूण हत्या के मामले खासी तेजी से बढ़े हैं। मुजफफरपुर में लिंगानुपात 928 से घटकर 917 और वैशाली में 937 से घटकर 892 पर पहुंच गया है। मुंगेर और भागलपुर जैसे जिलों में तो सेक्स रेशियो चौंकने पर मजबूर कर देता है। इन जिलों में 1000 पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या महज 879 रह गई है। अगर सेक्स रेशियो इसी तरह गिरता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब बिहार के ये जिले हरियाणा के झज्जर और सोनीपत जैसे जिलों को भी पीछे छोड़ देंगे। गौरतलब है कि हरियाणा का सेक्स रेशिय़ो 1000 पुरुषों में महज 875 है और वहां बेटों के लिए दुल्हनें मणिपुर, बिहार, झारखंड और केरल जैसे राज्यों से लानी पड़ती हैं।

गणना के दौरान यह भी पता चला कि हरियाणा में ऐसे 70 गांव हैं जहां कई वर्षों से एक भी बच्ची ने जन्म नहीं लिया है। केरल ही ऐसा इकलौता राज्य है जहां की साक्षरता दर व लिंगानुपात दोनों में समान वृद्धि देखी जा रही है।

दूसरी ओर देश के सबसे सुविधा संपन्न कहे जाने वाले दो ऐसे राज्य हैं हरियाणा और पंजाब, जो बालिकाओं की सुरक्षा के मामले में फिसड्डी साबित हुए हैं। जनगणना के आंकड़ों के अनुसार देश की गिनती में इनका स्थान 18 वां और 19वां है। हरियाणा के ये खराब हालात तब हैं जब वहां की बेटियों ने बार-बार राज्य और देश का नाम रोशन किया है। कभी खेल के मैदान में तो कभी अंतरिक्ष में उड़ान भर कर यानी कल्पना चावला बन कर।



कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए देश में पीएनडीटी ऐक्ट भी लाया गया है। इसके तहत किसी डॉक्टर को यदि लिंग जांच करते हुए पाया गया तो उसका लाइसेंस कैंसिल किए जाने तक की बात की गई। इतना ही नहीं, लिंग जांच करा रहे परिवार वालों के लिए भी कड़ी सजा का प्रावधान रखा गया है। लेकिन लगता है बावजूद इसके समाज की पुरानी सोच के सामने सभी कानून बेअसर साबित हो रहे हैं।
http://blogs.navbharattimes.indiatimes.com/nbteditpage/entry/girls-numbers-are-decreasing-in-country-inspite-of-government-s-efforts

Monday, 20 July 2015

पुलिस यानि मंदिर की घंटी, जो आता है बजा कर निकल जाता है

ठुल्‍ला या मंदिर की घंटी
जो आया बजा कर निकल गया
पूजा मेहरोत्रा
पुलिसवाले यानि मंदिर की घंटी। जिसे जो चाहे जब चाहे बजा देता है। ‘टन्‍न’। मंदिर आने वाला भी और जाने वाला भी। कुछ तो खड़े होकर तब तक बजाते रहते हैं जब तक कि मंदिर में खड़े लोग उस बंदे या बंदी को पलट कर देखने न लग जाएं। टन्‍न टन्‍न्‍ टन्‍न्‍ा।  कुछ ऐसा ही हाल दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके 67 से घटकर रह गए 66ठों का है। जब देखने लगते हैं कि जनता हमारा घेराव करने वाली है। बस आव देखा न ताव पुलिस को ‘टन्‍न टन्‍न टन्‍न’ करने लग जाते हैं। चुनाव के दौरान किए गए वादों पर जब लगने लगता हैकि जनता सवाल करने वाली है अपनी सारी नाकामयाबी का ठीकरा पुलिस पर फोड़ देते हैं। कभी ठुल्‍ला कह देते हैं तो कभी मोदी का चमचा। कभी घूसखोर होने का आरोप लगा देते हैं तो कभी पुलिस वालों को सीधा कर देने का। कुछ ऐसा ही एकबार फिर मिनाक्षी मर्डर के बाद सामने आया। महिलाओं के छेड़ छाड के बढते मामले पुलिस नाकामयाबी के किस्‍से बार बार उजागर होते रहे हैं। यह कोई नई बात नहीं हैं। आज जो मिनाक्षी के साथ हुआ कल वो हमारे साथ भी हो सकता है और आपके साथ भी। कई जगह पुलिस मुस्‍तैद भी होती है। अधिकतर जगह नहीं होती है और दुर्घटना घटती है। जब मुस्‍तैद होकर काम करती है तो सरकार अमिताभ ठाकुर और दुर्गा की तरह व्‍यवहार भी करती है। केजरीवाल और आपकी पार्टी थोडी अलग है। केजरीवाल राजनीतिज्ञ तो बन गए लेकिन इंसानियत भूल बैठे हैं। अपनी नाकामयाबी का ठीकरा दिल्‍ली पुलिस पर फोडा तो फोडा ठुल्‍ला, ये क्‍या बोल दिया। मेरा एक सवाल है जब केजरीवाल चुनावी घोषणाएं कर रहे थे तो कहा था कि आप पार्टी हर गली मुहल्‍ले में एक ऐसे फोर्स का गठन करेगी जो गली मुहल्‍लों में महिलाओं की रक्षा का दारोमदार उठाएंगे। कहां है वो फोर्स। पुलिस वाले तो आप पहले से ही जानते हैं कि ठुल्‍लों की फौज है।
 आप केंद्र सरकार से दिल्‍ली पुलिस को दिल्‍ली सरकार को दे देने की मांग बार बार कर रही है और पुलिस को ठीक कर देने की बात भी कर रही है। केजरीवाल एमसीडी के कर्मचारियों की सैलरी नहीं दे  पा रहे है। पूरा शहर कूडे में तब्‍दील कराकर आप राजनीति करने निकल पड़ते हैं। कूडा उठाने की राजनीति। चलिए एमसीडी में भ्रष्‍टाचार है और वहां भाजपा का बोलबाला है। आपकी राजनीति को हवा देने की बड़ी वजह भी। लेकिन ‘डीटीसी’। क्‍या वहां के कर्मचारी भी भाजपाई हैं। उनकी सैलरी क्‍यों नहीं आ रही है। क्‍यों बुजुर्गों को पेंशन नहीं जा रही है। पानी की सप्‍लाई पर दक्षिणी दिल्‍ली के सांवल नगर वासियों का कहना है कि केजरी सरकार के आते ही पानी का संकट गहरा गया है। ऐसे कई इलाके होंगे जहां पानी नहीं आ रहा होगा आ रहा होगा तो।
वो परेशान करते रहे आप काम करते रहे। कहां काम कर रहे हैं आप। बिजली का बिल आधा तो कर दिया है, पानी भी मुफत कर दिया है लेकिन क्‍या आप जानते हैं इससे बहुत बड़ी आबादी को बहुत फर्क नहीं पड़ता था न पड़ रहा है। जो दस हजार खर्च करता है वो 400 रुपए भी खर्च कर सकता है। मुददा तो महिलाओं की सुरक्षा का है, कहां कर रहे हैं आप सुरक्षा।
अब फिर एक बार पुलिस की बात   बारिश और कडकती धूप में अगर दिल्‍ली पुलिस सड़क से हट जाए तो आप सीधा चल नहीं पाते हैं। रात में जब कोई कार वाला रईसजादा जांच में जुटी पुलिस को कई किलोमीटर तक घसीटता है तो आप नजर नहीं आते हैं। जब ट्रक वाला तयशुदा माल से ज्‍यादा माल ढो रहा होता है और जब पुलिस चेकिंग के लिए रोकती है और ट्रक सभी सिपाहियों पर अपना चक्‍का चढा कर निकल जाता है तो आप नजर नहीं आते हैं। जब मोहनचांद जैसे पुलिस वाले डेंगु से पीडित बेटे को अस्‍पताल में छोड कर आतंकवादियों से लड़ता हुआ ढेर हो जाता है तब आप उसे शक कि निगाह से देखते हैं और उसकी शहादत को भी राजनीति की भेंट चढा देते हैं। जब आप दीवाली पर परिवार वालों के संग पटाखे छोड रहे होते हैं वही ठुल्‍ला पटाख्‍े की आड़ में कोई आतंकी बम न छोड जाए उसके लिए सड़क पर होता है। जब रात में दो बजे कोई बहन रक्षा के लिए आवाज लगाती है तो वही भाई जाता है घर मे ंअनाज भी भर आता है।   
हर चौक चौराहों पर मुहल्‍ला सभा में घूम घूम कर बेटियों की रक्षा का वादा आपने पुलिस के भरोसे तो नहीं किया था। मिनाक्षी पर जब गली में कई सौ लोगों के बीच हमला हो रहा था तब आपके कार्यकर्ता भी तो रहे होंगे। भाजपाई कांग्रेसी तो शुरू से राजनीति करते आ रहे हैं आप तो हमारे थे, हमारे होने का दावा कर रहे थे। केजरीवाल से पूरी दिल्‍ली को बहुत उम्‍मीदें थीं। महज छह महीने में सारी उम्‍मीदों पर ऐसा गटर का पानी बहा है कि सांस लेना तक दुस्‍वार होता जा रहा है। आम आदमी का पसीना वाला होर्डिंग तो 67 सीटों की गिनती पूरी होते होते ही राजधानी भर से उतार लिया गया था उसकी जगह मुस्‍कुराते नेहरू बंडी जिसे आजकल मोदी जी ने ट्रेंड में ला दिया है में केजरीवाल मुस्‍कुराते हुए धन्‍यवाद मुद्रा में नजर आने लग गए थे। उस दिन दिल्‍ली की जनता को एहसास हो गया था कि वो एक बार फिर ठग ली गई है। ये आम की भेषभूशा में कोई खास ही था जो एक बार फिर गरीबी की आड़ में राजनीति कर रहा है।  कल तक झाड़ू लिए लिए गली मुहल्‍लों में घूमने वाला, न न कर सरकार की सारी सुविधाएं सीना तान कर उपयोग कर रहा है। उसकी बिजली का बिल जब एक लाख आता है तो मुस्‍कुराते हुए कहता है मोदी जी का, राष्‍ट्रपति का और ग़हमंत्री के घर का बिल से हमारे बिल की तुलना कीजिए। क्‍यों साहब उनसे आम आदमी की तुलना की जा सकती है क्‍या।  
खूब राजनीति कीजिए। अन्‍ना से लेकर योगेंद्र यादव और प्रशांतभूषण तक से आपने राजनीति ही तो की है। केंद्र सरकार से, मोदी सरकार से दो दो हाथ भी कीजिए। आपका हक है। लेकिन जरा शब्‍दों के बाण चलाते समय सावधान रहिए। जिसे आप ठुल्‍ला कह रहे हैं उसके बच्‍चे भी हैं। आपको कोई बुरा कहता है तो आपके बच्‍चे स्‍कूल जाना छोड देते हैं, आपको बुरा लगता है। कुमार विश्‍वास की बेटी स्‍कूल नहीं गई थी आपकी इज्‍जत तार तार होती नजर आ रही थी। उन ठुल्‍लों के भी बच्‍चे हैं। 

Friday, 17 July 2015

बीमार जींस पर जीत के लिए ऐसे करें तैयारी

किसी भी पैरंट के लिए यह चिंता की बात होगी कि पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलने वाली बीमारी का शिकार उसके बच्चे भी हो सकते हैं। आजकल डायबिटीज, मोटापा, हाई बीपी, थॉयरॉइड जैसी बीमारियां आम हो गई हैं। ऐसे में जब आप इनका इलाज करवाने के लिए डॉक्टर के पास जाएंगे, तो एक सवाल डॉक्टर आपसे जरूर पूछते हैं कि क्या आपके पैरंट्स या किसी और संबंधी को ऐसी बीमारी है या हुई थी? बुरे जीन की वजह से होने वाली बीमारियों और उनके इलाज के बारे में एक्सपर्ट्स की मदद से बता रही हैं पूजा मेहरोत्रा:

कुछ समय पहले ही एक खबर काफी चर्चा में रही थी कि हॉलिवुड अभिनेत्री एंजेलिना जॉली स्तन कैंसर से बचने के लिए डबल मास्टेक्टमी करवा कर अपने दोनों ब्रेस्ट हटवा चुकी है। यही नहीं उन्होंने कैंसर के खतरे को देखते हुए अपना गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूब भी निकलवा दिए हैं। उन्हें कैंसर हुआ नहीं था, बल्कि जांच के दौरान डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि कैंसर के लक्षण तेजी से उभर रहे हैं। एंजेलीना ने जब अपनी जांच कराई तो पता चला था कि उनके शरीर में बीआरसीए1 जीन है जो स्तन और गर्भाशय के कैंसर के लिए जिम्मेदार है और वह तेजी से फैल रहा है। इससे कैंसर होने का खतरा है। चूंकि एंजेलिना की मां और नानी की मौत गर्भाशय के कैंसर की वजह से हुई थी। इसलिए उनमें बीआरसीए1 जीन, नानी और मां के जरिए से आने का खतरा था, इसलिए वह समय-समय पर अपनी जांच कराती रहती थीं। इंडिया में इतना बड़ा स्टेप उठाने की बात अभी तक सामने नहीं आई है। पर इसकी तैयारी साथ में की जा सकती है। हम सजग रह सकते हैं।

गुणों का गणितः हमारा शरीर अरबों सेल के मिलने से बना है। हर सेल में 46 (23 जोड़े) क्रोमोजोम्स होते हैं। जबकि स्पर्म या ओवम में सिर्फ 23 क्रोमोजोम ही होते हैं। जब फर्टिलाइजेशन होता है तो दोनों के मिलन से जो एम्ब्रियो बनती है, उसमें भी 46 क्रोमोजोम हो जाते हैं। ये क्रोमोजोम, डीएन, आरएनए और प्रोटीन्स के बने होते हैं। क्रोमोजोम्स मतलब गुणसूत्र, यानी शरीर के गुण-अवगुण को आगे की पीढ़ी में पहुंचाने वाला। अमूमन शरीर के डीएनए या आरएनए में कई जींस मिलते हैं। यानी एक क्रोमोजोम पर कई जींस हो सकते हैं। इनमें से कुछ जींस ऐक्टिव होते हैं और कुछ का कोई काम नहीं होता है। सीधे शब्दों में कहें तो ये क्रोमोजोम्स ही हैं जो अलग-अलग कैरेक्टर्स को पैरंट्स से बच्चों तक ले जाते हैं। इनमें कई बार कुछ बीमारियां भी ट्रांसफर हो जाती हैं। चूंकि ये बीमारियां जींस या क्रोमोजोम्स की वजह से आगे जाती हैं, इसलिए इन्हें ही जनेटिकल या हिरेडिट्री डिजीज कहते हैं।

जनेटिक बीमारी या आनुवांशिक बीमारियां: - हमारे शरीर में लगभग 25000 से ज्यादा जीन पाए जाते हैं। जीन में कई बार ऐसी बीमारियां पाई जाती हैं जो वातावरण या जीन में किसी तरह की गड़बड़ी से होती हैं। परिवारिक इतिहास में ऐसी बीमारी नहीं होती है।

-
इसे ऐसे भी समझ सकते हैं कि कुछ दिनों पहले एक खबर आई कि एक गरीब के घर में 3-4 साल की उम्र के तीन ऐसे बच्चे हैं जो आम बच्चों से ज्यादा मोटे-तगड़े हैं और एक बार में ढेर सारा खाना खा जाते हैं। ऐसा एक जनेटिक बीमारी की वजह से होता है लेकिन बीमारी हिरेडिट्री नहीं। कई बार ऐसा भी सुनने को मिलता है कि किसी बच्चे को आंसू की जगह खून निकलता है। ऐसी बीमारियां जनेटिक होती हैं लेकिन आनुवांशिक नहीं कि पीढ़ी-दर-पीढी चलती रहें।

-
इनमें थैलेसीमिया, हीमोफीलिया, डायबिटीज, हाई कॉलेस्ट्रॉल, हार्ट डिजीज कुछ ऐसी आनुवांशिक बीमारियां हैं जिनका रोकथाम बहुत जरूरी है।

-
सारे कैंसर आनुवांशिक नहीं होते हैं। कुछ ही कैंसर ऐसे हैं जो पीढी-दर-पीढी आगे बढ़ते हैं। पीढी-दर-पीढी होने वाले कैंसर में युवा अवस्था में होने वाले कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, गर्भाशय का कैंसर और किडनी का कैंसर मुख्य है।

कब चांस ज्यादाः - यदि कोई बीमारी माता और पिता के दोनों के परिवार में चली आ रही हे तो उस परिवार के बच्चे को वह बीमारी होने का खतरा 100 फीसदी तक होता है।

-
ईरान-इराक, सउदी अरब सहित उन कम्यूनिटिज में जहां परिवार में ही विवाह करने का प्रचलन है, वहां आनुवांशिक बीमारियों के ज्यादा चांसेज होते हैं। भारत में गुजरातियों, सिंधियों और लोहाणी में एक ही परिवार में शादी करने का प्रचलन है, जिसकी वजह से आनुवांशिक बीमारियां होती हैं।

-
हमारे देश में इस तरह का चलन बहुत ही कम है कि शादी से पहले लड़का या लड़की के परिवार की हेल्थ स्टेटस को जानने का कोशिश हो लेकिन ऐसा करना आगे के लिए फायदेमंद हो सकता है। यह सिस्टम अभी हमारे देश में ज्यादा चलन में नहीं है, पर यूरोप, अमेरिका में इस तरह की बात आम है।

-
जब शादी करें तो परिवार में बीमारियों की जांच पड़ताल करें। ऐसा मुमकिन नहीं कि किसी परिवार में कोई बीमार ही नहीं हुआ हो। 50 के बाद डायबिटीज या हाई बीपी जैसी बीमारियां आजकल आम हैं। इसलिए इस आधार पर रिश्ता नहीं करना सही निर्णय नहीं होगा। पर किसी परिवार में अगर कम उम्र में कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों की वजह से मौत का इतिहास रहा है तो शादी करने का फैसला लेने से पहले एक बार जरूर सोचें।

कैसे लड़ें जनेटिक बीमारी सेः - जनेटिक बीमारी होने के बाद उससे निपटना मुश्किल है लेकिन बच्चे के पैदा होने के पहले ऐसे उपाय किए जा सकते हैं कि कुछ जनेटिक बीमारियां उसमें ट्रांसफर न होंने पाएं। ऐसे में आईवीएफ जैसी तकनीक की मदद ली जा सकती है।

-
कभी-कभी देखा जाता है कि कोई महिला नेचरली कंसीव नहीं कर पातीं। ऐसे में वह आईवीएफ (इन विट्रो फर्टिलाइजेशन) तकनीक का सहारा लेती हैं।

-
इस तकनीक के द्वारा भारत में डायबिटीज, कैंसर, हाई बीपी जैसी बीमारियों को एम्ब्रियो स्टेज में ठीक करना मुमकिन नहीं है।

-
दूसरी बीमारियों जैसे थैलीसिमिया, बार-बार अबॉर्शन, सिस्टिक फाइब्रोसिस, डाउन सिंड्रोम, हीमोफीलिया और मंगोलिज्म आदि से बचा जा सकता है।

-
आईवीएफ के द्वारा एक साथ कई एम्ब्रियो तैयार किए जाते हैं। ऐसे में यह मुमकिन है कि बायॉप्सी या दूसरे तरीके से एम्ब्रियो की जांच करके ठीक हो सकने वाली बीमारियों के बारे में पता कर लिया जाएं। ऐसे में बुरे जीन के असर वाले एम्ब्रियो की जगह हेल्दी एम्ब्रियो इंप्लांट किया जा सकता है।

गर्भधारण के दौरान रहें सतर्कः - बच्चे की प्लानिंग से पहले डॉक्टर को परिवार में बीमारियों के इतिहास के बारे में बताएं।

-
गर्भधारण करने के लगभग दो महीने पहले से ही डॉक्टर की सलाह लें। इससे आने वाले बच्चे को पारिवारिक बीमारियों से बचाने के लिए कई तरह की दवाएं और फॉलिक एसिड के साथ कई जांच कराई जाती हैं।

-
गर्भधारण के बाद भी महिलाओं को दो महीने तक खास दवाएं और टेस्ट जारी रखा जाता है।

-
गर्भधारण के बाद भी स्पेशलिस्ट डॉक्टर की सलाह लेती रहनी होती है। पूरे इलाज में महज 15 से 20 हजार का खर्च आता है।

-
यदि किसी पुरुष के परिवार में गंभीर बीमारियों का इतिहास रहा है तो वह स्पर्म बैंक से ऐसे खास तरह के हेल्दी स्पर्म की मांग कर सकता हैं, जिसके परिवार में बीमारियों का पीढ़ी-दर-पीढ़ी ट्रांसफर रुक जाए।

कब कराएं जांच? - यदि किसी परिवार में 55 की उम्र में कैंसर या हार्ट डिजीज का पता चला है तो उस परिवार के नौजवान को 40-45 की उम्र में जांच कराना शुरू कर देना चाहिए।

-
परिवार में किसी दादी, नानी, बुआ या मासी को 45-50 की उम्र में ब्रेस्ट कैंसर, गर्भाशय का कैंसर हुआ हो तो उस घर की महिलाओं को 30-35 साल की उम्र से ही जांच करवानी शुरू कर देनी चाहिए।

-
जल्दी जांच से बीमारी के गंभीर होने से पहले ही उसका पता लगा कर जल्दी इलाज कराया जा सकता है।

रिश्तेदारों पर पैनी नजरः - यदि कोई बीमारी परिवार में पीढ़ी-दर-पीढ़ी चली आ रही है तो अभी सतर्क हो जाएं।

-
सिर्फ पिता के परिवार में होने वाली बीमारियां ही आने वाली पीढी को ट्रासंफर नहीं होती है बल्कि मां के परिवार की बीमारियां भी ट्रांसफर होती है।

-
पिता की ओर के रिश्तेदार जैसे बाबा, दादी, चाचा, ताऊ और बुआ और इस रिश्ते में आने वाले भाई बहन और मां के परिवार के रिश्तेदारों में नाना-नानी, मौसी और मामा, ममेरे भाई बहन के बारे में जानकारी रखें। अमूमन इनसे आप कॉमन जीन शेयर करते हैं। ऐसे में इनमें होने वाली हर बीमारी आपके लिए अलार्म की तरह है।

कितने जींस, कितनी बीमारियां: - इंसानी शरीर में एक लाख से ज्यादा जीन और क्रोमोसोम हैं।

-
इनमें से तकरीबन 25000 जींस के गुणों और अवगुणों का पता लगाया जा चुका है।

-
इनमें से करीब 2000 किस्म के जनेटिक टेस्ट भी मौजूद हैं।

-
माना जा रहा है कि आने वाले सालों में इंसान के जीन का विश्लेषण करके संभावित बीमारियों के खतरों से आगाह करना मुमकिन होगा।

कैंसर का जींस कनेक्शन: - कैंसर के लिए 40 फीसदी मामले तंबाकू के सेवन की वजह से, 20 फीसदी मामले इंफेक्शन की वजह से (वायरल, सिरविक्स आदि), 10 फीसदी लाइफस्टाइल से जुड़े और महज 10 फीसदी ही जनेटिक होते हैं।

- 20
फीसदी कैंसर ऐसे होते हैं, जिनके कारणों का पता नहीं चल पाता है।



तरह-तरह के जनेटिक डिजीज

क्रोमोजोमल एबनॉर्मलिटीज: जब शरीर में क्रोमोजोम की संख्या तय संख्या से कम या ज्यादा हो जाए। इनमें डाउन सिंड्रोम (जब 21वां क्रोमोजोम अतिरिक्त जुड़ जाए यानी 46 की जगह 47 हो जाए ), टर्नर सिंड्रोम (जब एक एक्स क्रोमोजोम कम हो जाए यानी सेल में कुल क्रोमोजोम 45 ही रहे) का नाम अहम हैं। कई बार क्रोमोजोम्स का कोई पार्ट ही मिस हो जाता है उसे डिलीशन कहते हैं। जब क्रोमोजोम का अरेंजमेंट गलत हो तब उसे ट्रांसलोकेशन कहते हैं।

सिंगल जीन डिसऑर्डर्स: जब किसी बीमारी के लिए एक ही जीन उत्तरदायी हो। मसलन, सिस्टिक फाइब्रोसिस, सिक्ल सेल एनीमिया आदि। वहीं एक्स लिंक्ड डिजीज में हीमोफिलिया का नाम लिया जा सकता है।

मल्टीफेक्टोरियल प्रॉब्लम्स: जब एक नहीं कई जींस की वजह से कोई परेशानी हो जाए। इसमें वातावरण से होने वाली समस्या को भी शामिल कर सकते हैं। मसलन, जब ब्रेन या स्पाइन में कोई प्रॉब्लम हो।

टेरेटोजेनिक प्रॉब्लम: जब किसी गलत दवाई, केमिकल, इंफेक्शन आदि की वजह से ऐसी समस्या हो। इन्हें दूर करने के लिए यह जरूरी है कि आप किसी जनेटिक काउंसलर की मदद लें। वह आपके डीएनए की जांच कर ही सही तथ्यों को बता पाएंगे।

लें आयुर्वेद, नैचरोपैथी और योग का सहारा: - आयुर्वेद व नेचुरोपैथी में बीमारी कोई भी हो खान पान का ध्यान रखना, जीवनशैली में बदलाव, एक्सरसाइज और थेरपी से कई बीमारियों की रोकथाम मुमकिन है।

-
डायबीटीज, कैंसर, गंजापन आदि के इतिहास वाले परिवार के लिए कई प्रकार की नैचरोपैथी थेरपी हैं। ऐसे परिवार जिनमें इन बीमारियों का इतिहास रहा है उन्हें अपनी आने वाली जेनरेशन को गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए बच्चों को 16 से 17 की आयु में ही सजग कर देना चाहिए। इससे बचाव के लिए आयुर्वेद में थेरेपी शुरू किया जाता है। इस इलाज में योग एक बहुत सहायक होता है। आयुर्वेद में जहां गंभीर बीमारियो के लिए इलाज की शुरुआत डिटॉक्सीफिकेशन से होती है। 21 दिनों तक चलने वाले इस इलाज में शरीर से सभी अशुदिधयों को दूर करने के लिए योग से लेकर कई प्रकार की थेरेपी और खान पान का खास ध्यान रखा जाता है। पंचकर्मा द्वारा भी बीमारी की रोकथाम की जाती है। उम्र बढने के साथ साथ यह प्रक्रिया छह महीने फिर तीन महीने में एक बार किया जाता है।

जिनके परिवार में डायबिटीज का इतिहास रहा है इसे लाइफस्टाइल डिजीज भी कहा जाता है इस लिए ऐसे मरीजों के लिए विशेष पद्धतियां मौजूद हैं। जो बीमारी को आने वाली पीढी में जाने से जीन को शुद्ध करती है। आयुर्वेद का सहारा लेकर खुद को आने वाली पीढी को गंभीर बीमारी से बचा सकते हैं।

ऐसे मरीजों को साल में एक बार 25 दिनों तक विभिन्न प्रकार के इलाज के लिए आश्रम में रखा जाता है। रुटीन लाइफ और थेरेपी दी जाती है, योग और मेडिटेशन भी इस थेरेपी अहम किरदार निभाते हैं।


किस बीमारी में कितना चांस
बीमारी
परसेंटेज
पैरेंटेस
थैलेसीमिया
100
माता-पिता दोनों
थैलेसीमिया
50
माता या पिता में से किसी एक को
हीमोफीलिया
100
माता-पिता
हीमोफीलिया
50
माता या पिता
कैंसर (ब्रेस्टसिरविक्स)
10-20
मां, मौसी, बुआ, नानी, दादी, बहन
कैंसर (किडनीलंग)
10
(परिवार में यदि किसी को है)
अल्जाइमर
10-20
फीसदी( यदि परिवार में किसी को है)
थायरॉयड
20-30
परिवार में मां या बाप किसी को है
डायबिटीज
50 : 50
यदि परिवार में है तब भी जीवनशैली और खानपान बदलकर इसे रोकना मुमकिन है
हाई कॉलेस्ट्रॉल
50 : 50
यदि परिवार है तब भी जीवनशैली और खानपान बदलकर इसपर रोकथाम संभव है
हार्ट की बीमारी भी
50 : 50
यदि परिवार में लगातार चली आ रही है
गंजापन
50 : 50
यदि मां और पापा के दोनों के परिवार में चली आ रही है
अस्थमा
50 : 50
ब्लड प्रेशर
50 : 50
आर्थिरोसेलेरोसिस
70 से 80